मिक्स न्यूज़

1990 से जो शख्स तराशता रहा राम मंदिर के पत्थर, आज फैसला सुन न सका

लखनऊ. अयोध्या (Ayodhya) में जो शख्स इस आस में 1990 से हजारों टन पत्थरों को अपने हुनर से तराश रहा था कि एक दिन राम मंदिर (Ram Temple) बनेगा और ये पत्थर उसमें इस्तेमाल होंगे, आज अयोध्या फैसले (Ayodhya Verdict) के ऐतिहासिक दिन वह दुनिया छोड़कर जा चुका है. जी हां, अयोध्या (Ayodhya) के कारसेवकपुरम स्थित राम मंदिर निर्माण कार्यशाला (Ram Temple Workshop) में पिछले दो महीनों से भी ज्यादा समय से पत्थर तराशने (Stone Carving) का काम पूरी तरह से थमा हुआ है. वजह ये है कि कुछ महीने पहले इसके मुख्य कारीगर रजनीकांत सोमपुरा का देहांत हो गया, जिसके बाद से पत्थर तराशने का काम पूरी तरह ठप हो गया….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *